अपराध को अपराध ना मानकर शौख मानने वाला इंसान :- चार्ल्स शोभराज CHARLES SOBHRAJ Biography


अगर आपके पास हुन्नर, दिमाग और कुछ बड़ा कर दिखाने की काबिलियत है तो जाहिर सी बात है कि, आप सही रास्ते पर चलकर, पैसे कमाकर, आराम की जिंदगी जिएंगे. पर ऐसा ना करके आप जुर्म की दुनिया का रास्ता अपनाए तो...

आज की कहानी भी एक ऐसे ही आदमी के बारे में है. चार्ल्स शोभराज जिसके पास किसीको भी अपनी बातों से अपने वश में करने का हुन्नर, दिमाग और कुछ बड़ा कर दिखाने की काबिलियत थी. पर इसका इस्तेमाल शोभराज sobhrajने सही रास्ते पर करने की बजाए गलत रास्ते पर किया. 

तो आइये जानते है, अपने इस ब्लॉग में कपड़े उतारकर जिंदा जला देने वाले कातिल के बारे में...

★ चार्ल्स शोभराज की जीवनी - Biography of Charles Sobhraj

जुर्म को अपना धर्म मानने वाले चार्ल्स शोभराज charles sobhraj का जन्म भारत की आजादी के 3 साल पहले 6 अप्रैल 1944 को वियतनाम के छोटे से गाँव साईगॉन में हुआ था. यह बहुत कम लोगों को पता है कि, चार्ल्स शोभराज का पूरा नाम हाटचंद भोनानी गुरुमुख चार्ल्स शोभराज है. 

चार्ल्स शोभराज charles sobhraj की माता का नाम त्रांग लोंग फुं था. जो वियतनाम मे एक दुकान की मालिक थी. और चार्ल्स शोभराज के पिता का नाम हाटचंद भोनानी शोभराज था. जो एक भारतीय सिंधी बिजनेसमैन थे. 

हालांकि, चार्ल्स शोभराज के माता-पिता की शादी नही हुई थी. वह दोनो लिवइन रिलेशनशिप में रहते थे. चार्ल्स शोभराज जब तीन साल के थे तब शोभराज की माता और पिता एक दुशरे से अलग हो गए थे. 

अलग होने के बाद चार्ल्स शोभराज की माँ ने फ्रांसीसी सेना के एक सैनिक से शादी कर ली. जो उन दिनों फ्रांसीसी-इन्डोचायना सरहद पर तैनात थे.  शादी के बाद शोभराज का पूरा परिवार फ्रांस आ गया. 

★ चार्ल्स शोभराज का जुर्म की दुनिया मे पहला कदम Charles Sobhraj's first step in the world of crime

चार्ल्स शोभराज CHARLES SOBHRAJ Biography
अपने दुशरे पिता द्वारा प्यार न मिलने की वजह से शोभराज बचपन से ही घर से दूर रहने लगा था. चार्ल्स शोभराज ने 19 साल की उम्र में अपने पहले अपराध को अंजाम दिया था. साल 1963 में चार्ल्स शोभराज को पहली बार फ्रांसीसी पोलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया था. 

चार्ल्स शोभराज को आज The Bikini Killer, The Splitting killer और भी कई नाम से जाना जाता है. चार्ल्स शोभराज ने अपने जीवन मे 12 से भी ज्यादा खून किये है. जिसमे से 6 लड़कियों को उसने कपड़े उतारकर जिंदा ही जला दिया था. 

चार्ल्स शोभराज के जीवन पर दो किताबें भी लिखी गई है. पहली किताब साल 1979 में थॉमस थॉम्पसन द्वारा लिखी है. जिसका नाम 'Serpentine' है. और दुशरी किताब साल 1980 में मशहूर लेखक जुलै क्लार्क और रिचर्ड नेविले द्वारा चार्ल्स शोभराज के जीवन पर एक किताब लिखी है. जिसका नाम "The Life and Crimes of Charles Sobhraj" है. 

बॉलीवुड में चार्ल्स शोभराज के जीवन पर एक फ़िल्म भी बन चुकी है. जिसका नाम 'main aur charles ' है. जिसके लीड रोल में बॉलीवुड के उभरते अभिनेता रणदीप हुड्डा है. इस फ़िल्म के लिए चार्ल्स शोभराज ने काफी ज्यादा रकम की मांग की थी. 

चार्ल्स शोभराज ने साल 2008 में अपने से बहुत छोटी उम्र की लड़की से नेपाल की जेल में ही शादी कर ली. जिसका नाम निहिता बिस्वास था. जो नेपाल की ही रहने वाली थी.

Read also

टिप्पणी पोस्ट करें