manya surve 1982 encounter | manya surve real life story in hindi

  • admin 

मुंबई जिसके दिन कातिल और रातें कातिल हसीनाओं के बाहों में. जिसे सपनो की नगरी भी कहा जाता है. जहाँ हररोज कई लोग आते है अपने सपने पूरे करने. मुंबई जितनी जानी जाती है अपनी सौरत के लिए उतनी ही जानी जाती है अपने गैंगस्टरस के लिये.

आज की कहानी भी मुंबई के एक ऐसे गैंगस्टर के बारे है, जिसका नाम सुनकर दाऊद भी डरता था. मनोहर अर्जुन सुर्वे जिसे आज लोग मन्या सुर्वे के नाम से भी जानते है. तो आइये जानते है भारतवर्ष ज्ञान के इस ब्लॉग में मन्या सुर्वे के जीवन के बारे में…..

manya surve

सबसे खतरनाक डॉन मन्या सुर्वे Manya Surve का एनकाउंटर Encounter देश का सबसे पहले एनकाउंटर मुंबई में हुआ था. बॉलीवुड एक्टर जॉन अब्राहम की फिल्म शूटआउट एट वडाला पुरी तरीके से manya surve movie डॉन मन्या सुर्वे जीवन पर आधारित है.

साल 1970 में मुंबई में मन्या सुर्वे की धौंस चलती थी. सभी लोगो मे उसका डर बहोती ज़्यादा था. दाऊद ओर भाई शब्बीर इब्राहिम उनका जानी दुश्मन था.

मन्या सुर्वे सचा का नाम real manya surve name मनोहर अर्जुन सुर्वे था. उसने मुंबई के कीर्ति कॉलेज से बी.ए. की पढ़ाई की थी. ओर वहीसे अपराध की दुनिया में क़दम रखा. अपने साथ के कुछ दोस्तों को भी अपनी गैंग में शामिल कर लिया था.

Manya Surve crime

मन्या सुर्वे Manya Surve को अपराध की दुनिया में उसका भाई भार्गव लाया था. भार्गव और उसके दोस्त साथ मिलकर मन्या ने साल 1969 में किसी दांदेकर का मर्डर किया. इस मर्डर में उनकी गिरफ्तारी हुई, मुकदमा चला और उम्र क़ैद की सजा हुई थी. यह सजा के बाद मन्या सुधार नही पर ओर भी खूनखार हो गया था.

मुंबई के बजाय पुणे की जेल में भेज दिया गया. पुणे की यरवदा जेल में मन्या का ऐसा आतंक था कि परेशान होकर जेल प्रशासन ने उसको रत्नागिरी जेल भेज दिया.

यह बात नाराज मन्या सुर्वे Manya Surve ने रत्नागिरी जेल में भूख हड़ताल कर दी. हड़ताल के दौरान वह एक लोकप्रिय विदेशी उपन्यास पढ़ता रहा था, जिसमें लूट की कई अनोखी मोडस ऑपरेंडी लिखी हुई थीं.

14 नवंबर 1979 को वह पुलिस को चकमा देकर अस्पताल से भाग निकल ने में कामियाब हो गया. मुंबई आने के बाद उसने अपने गैंग को फिर से एकडा किया, कई बड़े गैंगस्टर और उस दौर के कुख्यात रॉबर भी उसकी गैंग में शामिल थे.

इस गैंग ने चोरी-डकैती से लेकर कई तरह की अपराधो को अंजाम दिया. मन्या सुर्वे की वजसे, मुंबई में पुलिस की कार्यशैली ओर कानून पर उंगलियां उठने लगीं.

manya surve girlfriend

मन्या सुर्वे की खोजबीन करते हुई पुलिस ने उसके कई साथियों को गिरफ्तार किया. मन्या सुर्वे 11 जनवरी, 1982 को वह वडाला में आंबेडकर कॉलेज के पास ब्यूटी-पार्लर में अपनी गर्लफ्रेंड को लेने आया था. तभी मन्या सुर्वे को पुलिस ने पकड़ लिया. मन्या सुर्वे की गर्लफ्रेंड के वजेसे पुलिस मन्या सुर्वे तक पहोच सकी.

अपराध को अपराध ना मानकर शौख मानने वाला इंसान :- चार्ल्स शोभराज

manya surve 1982 encounter

मुंबई की पुलिस की टीम ने एनकाउंटर के दोरान मन्या सुर्वे को ढेर कर दिया.मन्या सुर्वे की मौत कई लोगो के लिये ख़ुशी का अवसर था.

उस समय मन्या सुर्वे दाऊद इब्राहिम से कई गुना ताकतवर था. लेकिन इस एनकाउंटर ने दाऊद को ताकतवर बना दिया.

कहते हैं कि यही मन्या एनकाउंटर के बाद अंडरवर्ल्ड को अपने दुश्मनों को ख़त्म करने का नया हथियार मिला. मान्या सुर्वे को मारे जाने के बाद 2004 तक मुंबई में 662 अपराधी पुलिस के एनकाउंटर का शिकार बने.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *