छोड़कर सामग्री पर जाएँ

रहीम दास की जीवनी | Rahim Das Biography in Hindi

खानजादा मिर्जा खान अब्दुल रहीम खान-ए-खाना जिसे रहीम दास Rahim Das के नाम से भी जाना जाता है, अब्दुल रहीम खान-ए-खाना का जन्म १७ दिसंबर १५५६ को अभी के पाकिस्तान मे हुआ था. मुगल बादशाह अकबर के समय के एक प्रसिद्ध संगीतकार है. वह अकबर के दरबार मे मुख्य नौ मंत्रियों मे से एक थे, जिन्हे नवरत्नों के रूप मे भी जाना जाता है.

रहीम दास rahim das अपने हिंदी दोहो और ज्योतिष पर अपनी पुस्तकों के लिए प्रसिद्ध है. खानखाना गाँव का नाम उनके नाम पर रखा गया है, जो भारत के पंजाब राज्य के नवांशहर जिले मे स्थित है.

रहीम दास की जीवनी Rahim Das Biography in Hindi

Rahim Das

Rahim Das

बैरम खान की विधवा पत्नी और बच्चे अब्दुल रहीम खान-ए-खाना को १५६१ मे अहमदाबाद ले जाया जा रहा था, उनकी हत्या के बाद, अकबरनामा रहीम, अकबर के भरोसेमंद कार्यवाहक बैरम खान का बेटा था, जो तुर्क वंश का था.

जब हुमायूँ अपने निर्वासन से भारत लौटा, तो उसने रईसो से पूरे देश मे विभिन्न जमीनदारो और सामंतो के साथ वैवाहिक गठबंधन बनाने के लिए कहा. जबकि हुमायूँ ने खुद हरियाणा के वर्तमान मेवात जिले के जमाल खान की बड़ी बेटी से शादी की, उसने बैरम खान से छोटी बेटी से शादी करने के लिए कहा.

बाबर की मृत्यु के तुरंत बाद ही उसके उत्तराधिकारी, हुमायूँ की जगह पठान शेर शाह सूरी ने ले ली, जिसके बाद साल १५४५ मे इस्लाम शाह आए. बाद के शासनकाल के दौरान मेवात मे फिरोजपुर मे सम्राट के सैनिको द्वारा एक लड़ाई लड़ी गई और हार गई, जिस पर इस्लाम शाह ने अपनी पकड़ ढीली नही की.

साल १५५२ मे सफल होने वाले पठान वार्ताकारो मे से तीसरे आदिल शाह को वापस लौटे हुमायूँ के साथ साम्राज्य के लिए संघर्ष करना पड़ा. बाबर के वंश की बहाली के इन संघर्षों मे स्पष्ट रूप से खानजादों का कोई स्थान नही है. ऐसा लगता है कि हुमायूँ ने बाबर के विरोधी हसन खान के भतीजे जमाल खान की बड़ी बेटी से शादी करके और अपने महान मंत्री बैरम खान से उसी मेवाती की एक छोटी बेटी से शादी करके उनका समझौता किया.

उनका मातृ वंश भगवान कृष्ण खानजादो तक जाता है, मुस्लिम जादोन राजपूतो के शाही परिवार ने सूफी संतों के साथ उनके सहयोग पर इस्लाम स्वीकार किया। राजपुताना शब्द ‘राजपूत’ का फारसी रूप खानजादा, प्राचीन जदुबंशी शाही राजपूत परिवार के महान प्रतिनिधियों का शीर्षक है, जो कृष्ण के वंशज है और इसलिए चंद्र वंश के है. वे फारसी इतिहासकारो के मेवाती प्रमुख है, जो मेवात के प्राचीन राजाओ के प्रतिनिधि थे.

अब्दुल रहीम Rahim Das का जन्म लाहौर (अभी के पाकिस्तान मे) मे १४ सितंबर १५५६ को हुआ था. गुजरात के पाटन मे बैरम खान की हत्या के बाद, उनकी पत्नी और युवा रहीम को सुरक्षित रूप से अहमदाबाद लाया गया, वहां से उन्हे दिल्ली लाया गया और अकबर के शाही दरबार में पेश किया गया. जिन्होंने उन्हें ‘मिर्जा खान’ की उपाधि दी, और बाद मे उनका विवाह एक प्रसिद्ध मुगल रईस अतागा खान के पुत्र मिर्जा अजीज कोकाह की बहन महबानू से कर दिया.

बाद मे, बैरम खान की पत्नी अकबर की दूसरी पत्नी बनी, जिसने अब्दुल रहीम खान-ए-खान को उसका सौतेला बेटा बना दिया, और बाद मे वह उसके नौ प्रमुख मंत्रियो, नवरत्नो या नौ रत्नो मे से एक बन गया.

हालाँकि जन्म से मुसलमान, रहीम भगवान कृष्ण के भक्त थे और उन्होंने उन्हे समर्पित कविताएँ लिखी. वह एक उत्साही ज्योतिषी भी थे, और ज्योतिष मे दो महत्वपूर्ण कार्यों के लेखक खेत कौतुकम और द्विविष योगावली अभी भी लोकप्रिय है.

वह गरीबो को भीख देने के अपने अजीब तरीके के लिए जाने जाते है. उसने कभी भी उस व्यक्ति की ओर नही देखा जिसे वह भिक्षा दे रहा था, अपनी दृष्टि नीचे की ओर पूरी विनम्रता से रखता था. जब तुलसीदास ने रहीम Rahim Das के दान देने के अनोखे तरीके के बारे मे सुना तो उन्होंने तुरंत एक दोहा लिखा और रहीम को भेजा

“ऐसी देनी देंन ज्यूँ, कित सीखे हो सैन
ज्यों ज्यों कर ऊंच्यो करो, त्यों त्यों निचे नैन”

“श्रीमान, इस तरह भिक्षा क्यों देते हैं? आपने यह कहाँ से सीखा ?, आपके हाथ उतने ही ऊँचे हैं जितनी आपकी आँखें नीची हैं”

यह जानकर कि तुलसीदास सृष्टि के पीछे की सच्चाई से अच्छी तरह वाकिफ थे, और केवल उन्हें एक कहने का अवसर दे रहे थे कुछ पंक्तियों के उत्तर में उन्होंने तुलसीदास को पूरी विनम्रता से लिखा:-

“देनहार कोई और है, भेजत जो दिन रैन
लोग भरम हम पर करे, तासो निचे नैन”

“देने वाला कोई और है, दिन-रात दे रहा है. लेकिन दुनिया मुझे श्रेय देती है, इसलिए मैं अपनी आँखें नीची कर लेता हूँ.”

उनके दो बेटो को अकबर के बेटे जहांगीर ने मार डाला और उनके शरीर को खूनी दरवाजे पर सड़ने के लिए छोड़ दिया क्योंकि रहीम rahim das अकबर की मौत पर जहांगीर के सिंहासन पर बैठने के पक्ष मे नही थे. नई दिल्ली मे हुमायूं के मकबरे से आगे मथुरा रोड पर निजामुद्दीन मे उनका मकबरा स्थित है, इसे उन्होंने १५९८ मे अपनी पत्नी के लिए बनवाया था, और बाद मे १६२७ मे खुद को इसमे दफनाया गया था.

बाद मे, साल १७६९ मे इस मकबरे से संगमरमर और बलुआ पत्थर का इस्तेमाल नई दिल्ली मे सफदरजंग के मकबरे के निर्माण के लिए किया गया था.

Rahim Das ke dohe

यह भी पड़े Rabindranath Tagore | Biography – रवींद्रनाथ टैगोर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *