छोड़कर सामग्री पर जाएँ

97th birthday Khashaba Dadasaheb Jadhav Biography in hindi | खशाबा दादासाहेब जाधव जीवनी

Khashaba Dadasaheb Jadhav

Biography

Khashaba Dadasaheb Jadhav

Khashaba Dadasaheb Jadhav

Khashaba Dadasaheb Jadhav Biography: 1926-1984 एक भारतीय पहलवान और ओलंपिक कांस्य पदक विजेता थे।

Khashaba Dadasaheb Jadhav Biography

खशाबा दादासाहेब जाधव जन्म (Khashaba Dadasaheb Jadhav was born) भारत के महाराष्ट्र के कोल्हापुर जिले के गोलेश्वर नामक एक छोटे से गाँव में हुआ था। जाधव ने छोटी उम्र में ही कुश्ती करनी शुरू कर दी थी, और जल्दी ही इस खेल में अपना नाम बना लिया।

खशाबा दादासाहेब जाधव ने हेलसिंकी, फ़िनलैंड में 1952 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक (summer Olympics) में भारत का प्रतिनिधित्व किया और बैंटमवेट वर्ग में कांस्य पदक जीता। वह स्वतंत्र भारत के पहले व्यक्तिगत ओलंपिक पदक विजेता थे, और उनकी उपलब्धि को अभी भी भारतीय खेल इतिहास (Indian sports history) में सबसे महान क्षणों में से एक माना जाता है।

खशाबा दादासाहेब जाधव Khashaba Dadasaheb Jadhav ने 1950 के दशक के अंत तक कुश्ती में प्रतिस्पर्धा जारी रखी और कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय चैंपियनशिप जीतीं। उन्होंने भारतीय कुश्ती के कोच और प्रशासक के रूप में भी काम किया। सक्रिय प्रतियोगिता से अपनी सेवानिवृत्ति के बाद, जाधव ने अपना समय अपने गृह राज्य महाराष्ट्र में खेलों को बढ़ावा देने के लिए समर्पित किया।

भारतीय खेलों (indian sports) में उनके योगदान के लिए उन्हें 1961 में अर्जुन पुरस्कार (Arjuna Award) और 1965 में पद्म श्री (Padma Shri) से सम्मानित किया गया था। 14 अगस्त, 1984 को 58 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया। आज उनके सम्मान में उनके गांव गोलेश्वर में खशाबा दादासाहेब जाधव स्मृति कुश्ती प्रतियोगिता आयोजित की जाती है।

अपने ओलंपिक पदक के अलावा, जाधव ने कई अन्य अंतरराष्ट्रीय पदक और चैंपियनशिप जीतीं। उन्होंने नई दिल्ली में 1951 के एशियाई खेलों और मनीला, फिलीपींस में 1954 के एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीते। उन्होंने 1950, 1954 और 1958 में बैंटमवेट श्रेणी में जीतकर ब्रिटिश साम्राज्य और राष्ट्रमंडल खेलों में कई स्वर्ण पदक जीते।

खशाबा दादासाहेब जाधव Khashaba Dadasaheb Jadhav कुश्ती की अपनी आक्रामक शैली और मैच जीतने के लिए पीछे से आने की क्षमता के लिए जाने जाते थे। वह एक भयंकर प्रतियोगी थे, जिन्होंने कभी हार नहीं मानी और कभी हार न मानने वाला रवैया रखते थे। वह कई युवा पहलवानों के लिए एक सच्ची प्रेरणा थे, जो उन्हें एक आदर्श के रूप में देखते थे।

सक्रिय प्रतियोगिता से अपनी सेवानिवृत्ति के बाद, खशाबा दादासाहेब जाधव ने भारतीय कुश्ती के कोच और प्रशासक के रूप में कार्य किया। वह 1972 के म्यूनिख ओलंपिक में भारतीय कुश्ती टीम के कोच थे, और बाद में महाराष्ट्र कुश्ती संघ के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। उन्होंने विभिन्न भारतीय खेल चैनलों के लिए एक खेल कमेंटेटर के रूप में भी काम किया।

Khashaba Dadasaheb Jadhav Image

Khashaba Dadasaheb Jadhav 

खशाबा दादासाहेब जाधव Khashaba Dadasaheb Jadhav की उपलब्धियों और भारतीय खेलों में योगदान को भारत सरकार और भारतीय ओलंपिक संघ द्वारा मान्यता और सम्मान दिया गया है। 2002 में भारत सरकार द्वारा उनके सम्मान में एक डाक टिकट जारी किया गया था। कोल्हापुर में उनके नाम पर एक स्टेडियम भी है, जहां नियमित रूप से कुश्ती टूर्नामेंट आयोजित किए जाते हैं।

संक्षेप में, खशाबा दादासाहेब जाधव अपने समय के सबसे कुशल और सम्मानित भारतीय पहलवानों (indian wrestlers) में से एक थे।

खशाबा दादासाहेब जाधव Khashaba Dadasaheb Jadhav ओलंपिक पदक जीतने वाले पहले भारतीय पहलवान थे और 1952 के हेलसिंकी ओलंपिक में उनका कांस्य पदक आज भी भारतीय खेल इतिहास (Indian sports history) में सबसे महान क्षणों में से एक माना जाता है। अपनी सफलता के बावजूद, वह अपने गृह राज्य महाराष्ट्र में खेलों को बढ़ावा देने के लिए विनम्र और समर्पित रहे और कोच और प्रशासक के रूप में कार्य किया। वह कई युवा पहलवानों के लिए एक सच्चे प्रेरणा थे और उनकी विरासत उनके गांव गोलेश्वर में आयोजित खशाबा दादासाहेब जाधव मेमोरियल कुश्ती प्रतियोगिता के माध्यम से जारी है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *