अदित्‍य श्रीवास्‍तव: एक सफल सिविल सेवक की प्रेरणादायक कहानी | Aditya srivastava upsc biography

Advertisements

अदित्‍य श्रीवास्‍तव का नाम UPSC परीक्षा की तैयारी करने वाले युवाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत है। इस लेख में हम उनके जीवन, संघर्ष और सफलता की यात्रा पर विस्तार से चर्चा करेंगे। अदित्‍य श्रीवास्‍तव ने UPSC परीक्षा में अपनी मेहनत और धैर्य से सफलता प्राप्त की और सभी के लिए एक मिसाल बने।

अदित्‍य श्रीवास्‍तव का प्रारंभिक जीवन | Early life of Aditya Srivastava

अदित्‍य श्रीवास्‍तव का जन्‍म 14 मई 1992 को उत्तर प्रदेश के प्रयागराज (इलाहाबाद) जिले में हुआ था। उनका परिवार मध्यमवर्गीय था और शिक्षा को उच्च प्राथमिकता देता था। उनके पिता रामनारायण श्रीवास्‍तव एक सरकारी कर्मचारी थे और माता सुनीता श्रीवास्‍तव गृहिणी थीं। अदित्‍य का एक छोटा भाई भी है, जिसका नाम अर्जुन श्रीवास्‍तव है।

अदित्‍य श्रीवास्‍तव की शिक्षा | Education of Aditya Srivastava

अदित्‍य की प्रारंभिक शिक्षा प्रयागराज के सेंट जोसेफ स्कूल से हुई। वह पढ़ाई में शुरू से ही मेधावी थे। अदित्‍य का रुझान गणित और विज्ञान में अधिक था, लेकिन उन्होंने सभी विषयों में अच्छे अंक प्राप्त किए।

दसवीं कक्षा में उन्होंने 90% अंक हासिल किए। इसके बाद, बारहवीं कक्षा में उन्होंने 92% अंकों के साथ स्कूल टॉप किया। उनके इन परिणामों ने सभी को आश्चर्यचकित कर दिया और उन्हें आगे की पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित किया।

बारहवीं के बाद, अदित्‍य ने प्रयागराज के मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (MNNIT) से इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की। उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग में B.Tech किया। कॉलेज के दौरान भी उन्होंने अपनी पढ़ाई में उत्कृष्टता प्राप्त की और कॉलेज टॉपर्स में शामिल रहे।

UPSC की तैयारी | UPSC preparation

इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद अदित्‍य ने अपने कैरियर की दिशा बदलने का फैसला किया और UPSC (संघ लोक सेवा आयोग) की परीक्षा की तैयारी शुरू की। उनके इस निर्णय ने उनके जीवन की दिशा बदल दी। UPSC की तैयारी के लिए उन्होंने दिल्ली का रुख किया और मुखर्जी नगर में रहकर कोचिंग की।

अदित्‍य ने पहली बार 2018 में UPSC की परीक्षा दी। हालांकि, पहली कोशिश में उन्हें प्रारंभिक परीक्षा में सफलता नहीं मिली। इससे वे निराश नहीं हुए, बल्कि अपनी गलतियों से सीख ली और तैयारी में और जोश के साथ जुट गए।

Advertisements

रणनीति और तैयारी | Strategy and Preparation

अदित्‍य ने UPSC की तैयारी के दौरान एक सुस्पष्ट रणनीति अपनाई। उन्होंने सामान्य अध्ययन के सभी चार पेपर, वैकल्पिक विषय के दो पेपर, निबंध, और व्यक्तिगत साक्षात्कार के लिए अलग-अलग रणनीतियाँ बनाई। उन्होंने रोजाना आठ से दस घंटे पढ़ाई की और समय-समय पर खुद का आकलन करते रहे।

  1. सामान्य अध्ययन (General Studies): अदित्‍य ने सामान्य अध्ययन के लिए एनसीईआरटी की किताबों को आधार बनाया। उन्होंने इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र, और राजनीति विज्ञान के मूलभूत सिद्धांतों को समझने के लिए एनसीईआरटी की किताबों का अध्ययन किया। इसके बाद, उन्होंने मानक पुस्तकों का अध्ययन किया और समसामयिक घटनाओं पर विशेष ध्यान दिया।
  2. वैकल्पिक विषय: अदित्‍य का वैकल्पिक विषय समाजशास्त्र (Sociology) था। उन्होंने समाजशास्त्र के लिए दो मानक पुस्तकों का चयन किया और उन्हें कई बार पढ़ा। इसके साथ ही, उन्होंने पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों का विश्लेषण किया और महत्त्वपूर्ण विषयों पर नोट्स बनाए।
  3. निबंध: अदित्‍य ने निबंध लिखने के लिए विभिन्न समसामयिक मुद्दों पर अपने विचार संक्षेप में लिखने की आदत बनाई। उन्होंने हर सप्ताह दो निबंध लिखे और उन्हें सुधारने के लिए अपने शिक्षकों और साथियों से मार्गदर्शन लिया।
  4. व्यक्तिगत साक्षात्कार: अदित्‍य ने व्यक्तिगत साक्षात्कार के लिए मॉक इंटरव्यूज का सहारा लिया। उन्होंने अपनी शिक्षा, अनुभव और रुचियों के आधार पर संभावित प्रश्नों की सूची बनाई और उन पर अपने उत्तर तैयार किए।

अदित्‍य श्रीवास्‍तव की सफलता की कहानी | Success story of Aditya Srivastava

अदित्‍य श्रीवास्‍तव ने 2021 में अपनी दूसरी कोशिश में UPSC की परीक्षा में 7वीं रैंक हासिल की। उनकी इस सफलता ने पूरे परिवार और उनके मित्रों में उत्साह का संचार किया। अदित्‍य का कहना है कि उनकी सफलता का सबसे बड़ा कारण उनकी मेहनत, परिवार का समर्थन, और उनकी सकारात्मक सोच थी।

अदित्‍य श्रीवास्‍तव की प्रशिक्षण और नियुक्ति | Training and appointment of Aditya Srivastava

UPSC परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के बाद अदित्‍य ने लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी (LBSNAA) मसूरी में प्रशिक्षण प्राप्त किया। वहां उन्होंने प्रशासनिक कार्यों, भारतीय संविधान, और लोक नीति के बारे में गहन अध्ययन किया।

प्रशिक्षण के बाद अदित्‍य की पहली नियुक्ति केरल राज्य में उप जिलाधिकारी (SDM) के रूप में हुई। वहां उन्होंने अपनी प्रशासनिक जिम्मेदारियों को बखूबी निभाया और जनसेवा के लिए प्रतिबद्धता दिखाई।

अदित्‍य श्रीवास्‍तव का योगदान और अनुभव | Contribution and experience of Aditya Srivastava

अदित्‍य श्रीवास्‍तव ने अपने प्रशासनिक कार्यकाल के दौरान कई महत्वपूर्ण कार्य किए। उन्होंने केरल में आपदा प्रबंधन के दौरान अद्वितीय पहलें कीं। अदित्‍य ने स्वच्छता और शिक्षा के क्षेत्र में भी योगदान दिया और कई योजनाओं का सफल संचालन किया।

  1. आपदा प्रबंधन: अदित्‍य ने केरल में बाढ़ के दौरान राहत कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने राहत शिविरों का प्रबंधन किया और प्रभावित लोगों की मदद के लिए त्वरित निर्णय लिए।
  2. स्वच्छता अभियान: अदित्‍य ने ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के अंतर्गत अपने जिले में कई स्वच्छता कार्यक्रम शुरू किए। उन्होंने लोगों को जागरूक किया और सफाई के प्रति संजीदगी बढ़ाई।
  3. शिक्षा: अदित्‍य ने अपने जिले के सरकारी स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए कई योजनाएँ चलाईं। उन्होंने स्मार्ट क्लासरूम्स की स्थापना की और छात्रों के लिए विशेष शिक्षण कार्यक्रम शुरू किए।

प्रेरणा स्रोत | Source of inspiration

अदित्‍य श्रीवास्‍तव का जीवन उन सभी युवाओं के लिए प्रेरणादायक है जो UPSC परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। उनके जीवन से हमें यह सीखने को मिलता है कि सफलता के लिए कड़ी मेहनत, सकारात्मक सोच, और निरंतर प्रयास की आवश्यकता होती है। अदित्‍य का संघर्ष और उनकी सफलता यह सिद्ध करती है कि यदि लक्ष्य स्पष्ट हो और उसे पाने की जिद्द हो, तो कोई भी मुश्किल रास्ते में नहीं आ सकती।

निजी जीवन | Private life

अदित्‍य अपने काम के अलावा अपने परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताना पसंद करते हैं। उन्हें पढ़ना, यात्रा करना, और समाज सेवा में रुचि है। अदित्‍य का कहना है कि परिवार का समर्थन और दोस्तों का प्रोत्साहन उनकी सफलता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

Advertisements

Leave a Comment